Search
Close this search box.

फ़ार्मेसी एवं फ़िजीयोथेरेपी के पाठ्यक्रम भी शुरू होंगे आईपी कैम्पस में

नई दिल्ली, 16 जनवरी (वि सं )। आईपी यूनिवर्सिटी के द्वारका कैम्पस में नए सत्र में एक दर्जन से ज़्यादा नए पाठ्यक्रम शुरू किए जाने क़ी शृंखला में फ़ार्मेसी एवं फ़िजीयोथेरेपी के भी कई नए पाठ्यक्रम चलाने की कवायत शुरू हो गई है। फ़ार्मेसी और फ़िजीयोथेरेपी के नए पाठ्यक्रम यूनिवर्सिटी स्कूल औफ मेडिकल एंड ऐलायड साइयन्सेज के अंतर्गत सेंटर फ़ॉर एक्सलेन्स इन फ़ार्मास्यूटिकल साइयन्सेज में चलाए जाएँगे।

इस सेंटर के परियोजना निदेशक डॉक्टर पंकज अग्रवाल ने बताया कि 60 सीटों के साथ दो वर्षीय डी॰ फ़ार्मा, 100 सीटों के साथ चार वर्षीय बी॰ फ़ार्मा, 60 सीटों के साथ दो वर्षीय एम॰ फ़ार्मा और 50 सीटों के साथ साढ़े चार वर्षीय बैचलर औफ फिजीयोथेरेपी शुरू करने की कोशिश जारी है। इन प्रोग्राम से संबद्ध नियामक एजेंसियों की मंज़ूरी अगर मिल जाती है तो इन्हें जल्द-से-जल्द शुरू कर दिया जाएगा।

डॉक्टर अग्रवाल ने बताया कि कोर मेडिकल कोर्सेज के साथ-साथ ऐलायड मेडिकल कोर्सेज़ और पारा-मेडिकल कोर्सेज़ की डिमांड भी बढ़ रही है। इसके मद्देनज़र इन प्रोग्राम को कैम्पस में शुरू करने का फ़ैसला लिया गया है। डॉक्टर अग्रवाल ने बताया कि इन प्रोग्राम को शुरू करने की सभी औपचारिक ज़रूरतों को पूरा करने एवं आधारभूत सुविधाओं को विकसित करने पर युद्ध स्तर पर काम चल रहा है।

यूनिवर्सिटी के कुलपति पद्मश्री प्रो. डॉक्टर महेश वर्मा ने कहा कि येसे समय में जब हम 2047 तक अपने देश को पूरी तरह विकसित राष्ट्र बनाने का संकल्प ले कर चल रहे हैं हमें कोर मेडिकल स्ट्रीम के साथ- साथ ऐलायड मेडिकल स्ट्रीम, पारा- मेडिकल, अल्टरनेट मेडिकल स्ट्रीम, प्रिवेंटिव मेडिकल केयर, इत्यादि के भी सतत विकास पर बल देना होगा।

GAGAN PAWAR
Author: GAGAN PAWAR

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज