Search
Close this search box.

अमेरिका में 170 से ज्यादा बोइंग 737 मैक्स-9 विमानों की उड़ान पर रोक

वाशिंगटन, 07 जनवरी ( एजेंसी )। अमेरिका के एयर सेफ्टी रेगुलेटर ने शनिवार देररात अलास्का एयरलाइंस बोइंग के 170 से ज्यादा 737 मैक्स 9 विमानों की उड़ान पर अस्थाई रोक लगा दी। एयर सेफ्टी रेगुलेटर का यह फैसला ओरेगॉन की घटना के बाद आया है। इस घटना में बोइंग के विमान का बीच हवा में दरवाजा टूट गया। इससे यात्रियों की जान पर बन आई। इसके बाद विमान की इमरजेंसी लैंडिंग करानी पड़ी।

द न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका के फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन ने बोइंग के 737 मैक्स 9 विमानों की तुरंत जांच का निर्देश दिया है। जांच पूरी होने के बाद ही इन विमानों की उड़ान शुरू हो सकेगी। शनिवार देररात जारी आदेश के बाद अमेरिका में बोइंग 737-9 मैक्स सीरीज के करीब 171 विमान नहीं उड़ सकेंगे। रिपोर्ट के अनुसार शनिवार शाम करीब पांच बजे इस विमान का इमरजेंसी एग्जिट डोर 16 हजार फीट की ऊंचाई पर उखड़ गया था। विमान में 171 यात्री और छह क्रू मेंबर सवार थे। यह विमान पोर्टलैंड से कैलिफोर्निया के ओंटारियो जा रहा था। दरवाजा उखड़ने के बाद विमान के अंदर प्रेशर घट गया और ऑक्सीजन मास्क खुल गए थे। विमान में सवार सभी लोग सुरक्षित हैं।

डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, विमान यात्री 20 वर्षीय एलिजाबेथ ने कहा कि विमान में बैठने पर आमतौर पर जो आवाज सुनाई देती है, उससे 10 गुना ज्यादा तेज आवाज आ रही थी। ऐसा लग रहा था जैसे हमारे कान फट जाएंगे। एक और विमान यात्री कायली रिंकर के अनुसार, दरवाजे के बगल की सीट पर एक बच्चा बैठा था। उसकी शर्ट फट गई।

डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, दरवाजे के अलग होते ही पायलट ने इमरजेंसी की घोषणा की। ऑडियो रिकॉर्डिंग्स में पायलट एयर ट्रैफिक कंट्रोल से लैंडिंग की बात कहते सुनाई देता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सीरीज के विमान दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होते हैं। 2018 में इंडोनेशियाई एयरलाइन के तहत उड़ान भरते वक्त पहली बार यह विमान क्रैश हुआ था। तब करीब 189 लोगों की मौत हुई थी। इसके बाद मार्च 2019 में एक और बोइंग 737 मैक्स प्लेन क्रैश हुआ। इसमें 157 लोगों की मौत हो गई। इसके तीन दिन बाद अमेरिका ने इनकी उड़ान पर रोक लगा दी। 2021 में बोइंग ने अमेरिकी न्याय विभाग के समक्ष 2.5 अरब डॉलर का जुर्माना भरा।

GAGAN PAWAR
Author: GAGAN PAWAR

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज